The Notebook Movie Story in hindi

0
(0)

The Notebook Movie Story in hindi

हर कहानी में कुछ ना कुछ ऐसी बात होती है जो उसे खास बनाती है। और ऐसे हैं खास बात इस कहानी में भी है और वह है इसका क्लाइमेक्स जो दूसरी कहानियों से बिल्कुल अलग है। इस कहानी में यह दिखाया जाता है कि एक बूढ़ा आदमी जिसका नाम जॉन है वह एक नर्सिंग होम में एक लेडी से मिलने जाता है। यह लेडी अपने आप में बहुत उदास होती है। वह खिड़की से बाहर देख रही होती है। तभी वहां जॉन पहुंचता है और नर्स उस लेडी से कहती है, कि यह आदमी आपको एक किताब पढ़कर सुनाना चाहते हैं। यह बहुत मजाकिया है। पहले तो वह लेडी मना कर देती है, लेकिन बाद में मान जाती है। जॉन उस लेडी को कहानी सुनाना शुरू करता है।

पूरी कहानी जाती है फ्लैशबैक में सन 1940 में। वहां पर यह दिखाया जाता है कि एक टर्मन नाम का लड़का जो कि गरीब है और एक लमबर मिल में वर्कर है। वह अपने दोस्त के साथ एक मेले में घूम रहा होता है। तभी उसको वहां पर एक लड़की दिखती है और वह लड़की उसके दोस्त के गर्लफ्रेंड के साथ होती है। टर्मन को वह लड़की बहुत पसंद होती है। उस लड़की का नाम होता है लीना। वह अफ्रिका से है और वह यहां पर छुट्टियां मनाने आई होती है।टर्मन उस लड़की से बात करना चाहता है वह उसके पास जाता है वह कहता है कि क्या मैं आपके साथ डांस कर सकता हूं। नैना बोलती है कि नहीं पर मन पूछता है क्यों वह बोलती है कि मुझे नहीं मन है। और वह वहां से चली जाती है लेकिन टर्मन फिर भी उसके पीछे पीछे जा रहा होता है लीना अपने दोस्त को बोलती है कि यह तो मेरे पीछे ही पड़ गया लीना की दोस्त उसे बताती है कि इसका नाम टर्मन है ऐसा कभी नहीं करता शायद यह तुम्हें पसंद करता है इसलिए ऐसा कर रहा है। जब लेना अपने दोस्त के साथ झूले पर चढ़ी होती है तो टर्मन भी झूले पर चल जाता है यह देखकर झूले वाला झूले को रोक देता है। वह कहता है, कि एक सीट पर 3 लोग नहीं बैठ सकते हैं। तुम्हें नीचे आना होगा। छोटे शहरों की एक खास बात होती हैयहां पर सभी लोग एक दूसरे को बहुत अच्छी तरह से जानते हैं इसीलिए झूले वाला टर्मन को और झूले पर बैठे सभी लोगों को अच्छी तरह से पहचान रहा होता है।टर्मन झूले पर लटक जाता है वह लीना से कहता है कि अगर तुम मुझसे दोस्ती नहीं करोगी तो मैं यहां से कूद जाऊंगा। इसलिए लीना को मजबूरी में बोलना पड़ता है कि मैं तुमसे दोस्ती करूंगी। और वोटर मन की पेंट उतार देती है।वहां पर सब के सब बहुत हंसने लगते हैं। अगले दिन जब टर्मन अपने काम से आ रहा होता है, तो उसे लीना दोबारा दिखती है। वह उसके पास जाता है और उसे डेट पर चलने के लिए कहता है। लीना साफ साफ मना कर देती है। पर मन कहता है कि तुमने कहा था, कि तुम मेरी दोस्त हो। तब लीना ने कहा कि हां मैंने उस समय ऐसे ही कह दिया था। पर मन कहता है कि हो सकता है कि मेरा दोस्ती करने का तरीका अलग हो लेकिन मैं तुम्हें सच में बहुत पसंद करता हूं। मैं तुम्हारे साथ डेट पर जाना चाहता हूं लेकिन लेना कहती है कि ऐसा कभी नहीं हो सकता। और वह वहां से चली जाती है। इसके बाद टर्मन अपने दोस्त की हेल्प लेता है क्योंकि उसके दोस्त की गर्लफ्रेंड लीना की फ्रेंड है। वह लोग अलीना को मूवी देखने के लिए बुलाते हैं और वहां पर टर्मन भी आ जाता है। लीना को यह बात नहीं पता होती यह सब के सब साथ मिलकर मूवी देखते हैं थिएटर में टर्मन मूवी कम लीना को ज्यादा देख रहा होता है।

जब टर्मन लेना घर जा रहे होते हैं तो वह लोग अपने दोस्त की गाड़ी में नहीं बैठते हैं बल्कि पैदल चलते हैं, ताकि बहुत सारी बातें कर सके। और वह लोग काफी बातें करते हैं। इसके बाद टर्मन सड़क पर लेट जाता है और कहता है कि आओ तुम भी लेट जाओ। लीना मना कर देती है। तब टर्मन कहता है, कि तुम्हारी यही प्रॉब्लम है। जो तुम्हें मन करता है, वह तुम नहीं करती हो। लीना भी वहां पर लेट जाती है दोनों लेट कर आसमान को देख रहे होते हैं। तभी वहां पर एक गाड़ी आती है हॉर्न बजाती है। यह दोनों वहां से उठकर भागते हैं। इस बात से लीना को बहुत खुशी होती है। वह खुलकर हंसती है। इसके बाद टर्मन लीना को डांस करने के लिए कहता है और दोनों सड़क पर डांस करने लगते हैं। और यहां से इनकी दोस्ती और प्यार में बदलना शुरू हो जाती है। इन दोनों को एक दूसरे से प्यार हो जाता है और इसके बाद यह दोनों हर पल एक दूसरे के साथ बिताते हैं। दिन गुजरते जाते हैं दोनों की सोच बिल्कुल अलग अलग है। यह दोनों लड़ते झगड़ते हैं लेकिन इसके बावजूद भी एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। इनकी लड़ाई में हार जीत वाली कोई बात नहीं होती यहां सिर्फ प्यार होता है। एक दिन जब लीना को टर्मन घर छोड़ने जाता है तो उसके डैडी देख लेते हैं। लीना के डैडी कहते हैं कि टर्मन को संडे को लंच पर बुलाओ। जब टर्मन लंच पर जाता है, तो वहां पर और भी बहुत सारे लोग बैठे होते हैं। यह सभी लोग अपने लाइफ में अपने कैरियर में वैल्सेट होते हैं। लेकिन टर्मन इन के बिल्कुल विपरीत है। वह एक नंबर मिल में वर्कर है। यह पता लगने के बाद लीना के मां-बाप उससे बिल्कुल इंप्रेस नहीं होते हैं लीना की मां नहीं चाहती कि वह टर्मन के साथ घूमे। लीना के डेड कहते हैं, कि यह इनका बचपना है 1 दिन टर्मन लीना को एक पुराने विरान घर में ले जाता है।

यह घर पूरी तरह से खंडार होता है। यहां पर कोई नहीं रहता। टर्मन लेना को बताता है कि यह घर 1772 में बना था। और एक दिन मैं इस घर को खरीद के रहूंगा। इसे मैं बहुत अच्छे से सजाऊंगा और एक वर्कशॉप भी बनाऊंगा। लीना कहती है कि मुझसे भी तो पूछो पर मन कहता है कि हां बोलो ना।लीना कहती है कि इस पूरे घर को वाइट पेंट करेंगे। इसके सटर्स को ब्लू। मेरे कमरे से एक नदी दिखेगी वहां पर मैं पेंटिंग करूंगी।दरअसल लीना को पेंटिंग करने का बहुत शौक होता है जब भी वह पेंटिंग करती है तो वह सब कुछ भूल जाती है। टर्मन कहता है, कि ठीक है मैं ऐसा ही करूंगा। तभी वहां पर टर्मन का फ्रेंड आ जाता है और बताता है कि लीना के मां-बाप ने पुलिस कंप्लेंट किया है। तभी टर्मन लीना को से घर लेकर जाता है।लीना कहती है कि डैड आप ने पुलिस को बुला लिया लीना की मां कहती है कि रात के 2:00 बज रहे हैं, और हम क्या करते। तुम घर पर ही नहीं थी। और साथ ही साथ लीना की मां उसे बहुत डांट टी हैं कहती हैं कि तुम इस लड़के के साथ अपना टाइम बर्बाद कर रही हो। लीना कहती है कि यह एक अच्छा लड़का है वह मजदूर है लकड़ी काटता है। लीना की मां कहती है कि क्या तुम अपनी पूरी जिंदगी बिता पाओगी इसके साथ लीना कहती है, कि हां मैं बिता लूंगी। उसकी मां कहती है कि बस बहुत हुआ आज के बाद तुम इस लड़के से नहीं मिलोगी। लीना कहती है कि मैं मिलूंगी और वह अपने पिताजी से कहती है की मैं उससे प्यार करती हूं। उसके पिताजी कहते हैं की टर्मन तुम्हारे लायक नहीं है। टर्मन बाहर बैठकर सब कुछ सुन रहा होता है। उसे बुरा लगता है। दरअसल यह सच्चाई भी होती है। यह सब सुनकर टर्मन वहां से जाने लगता है। लीना भागकर उसके पीछे जाती है उसे रोकती है। टर्मन कहता है, कि तुम्हारे मां-बाप सही हैं मेरी किस्मत बदलने वाली नहीं है। मैं ऐसे ही रहने वाला हूं। तुम पढ़ने के लिए न्यूयॉर्क जाने वाली हो। लीना कहती है कि मैं नहीं जा रही। मैं यही रहूंगी तुम्हारे पास। पर टर्मन कहता है, कि हमें गर्मियां खत्म होने का इंतजार करना चाहिए। इन सब बातों का फैसला करने के लिए यह सही वक्त नहीं है। लीना कहती है, कि तो तुम मुझसे रिश्ता खत्म करना चाहते हो। इससे पहले मैं तुमसे ब्रेकअप करती हूं और वह कर मन को जाने के लिए कहती है। पर मन वहां से चला जाता है और इस बात से टर्मन को और लीना को दोनों को दुख होता है। अगली सुबह जब लेना उठती है तो वह देखती है कि वहां से उसके जाने की तैयारी की जा रही है। वह अपने मां के पास जाती है और कहती है कि हम एक हफ्ते बाद जाने वाले थे। उसकी मां कहती है कि हम आज ही जा रहे हैं। लीना कहती है कि नहीं मैं नहीं जाऊंगी। उसकी मां कहती है कि तुम्हें जाना तो पड़ेगा। और लीना वहां से भागती हुई उस तरफ जाती है जहां पर टर्मन काम करता है। वहां पर टर्मन नहीं होता उसका दोस्त होता है। वहा टरमन के दोस्त से पूछती है कि टर्मन कहां है उसका दोस्त कहता है कि वह यहां नहीं है। लीना कहती है कि मैं आज अपने परिवार के साथ यहां से जा रही हूं। उसका दोस्त कहता है की देखो जो भी तुम्हारे बीच हुआ उन सब को भूल जाओ। लीना कहती है कि ऐसा नहीं हो सकता मैं तन मन से प्यार करती हूं। तुम उसे मेरी बात जरूर बताना। वह कहती है कि कल रात में जो भी बातें हुई थी उसमें कोई सच्चाई नहीं है। टर्मन का दोस्त कहता है कि देखो तुम परेशान मत हो अगर वह तुमसे प्यार करता है तो वह तुम्हें चिट्ठी जरूर लिखेगा। और इसके बाद लीना वहां से चली जाती है। जब टर्मन वहां पर आता है तो उसका दोस्त उसे बताता है कि लीना यहां से जा रही है। और वह तुमसे मिलने के लिए आई थी। टर्मन अपनी गाड़ी में उसके घर की तरफ जाता है ‌ और जब वह उसके घर पर पहुंचता है, तब तक लीना वहां से जा चुकी होती है। इसके बाद टर्मन लीना को प्रतिदिन एक चिट्ठी लिखता है, लेकिन उसकी चिट्ठी का कोई भी जवाब नहीं आता। वह लगातार 1 साल तक लीना को चिट्ठी लिखता रहता है। वह लीना को 365 चीटियां लिखता है, लेकिन उनमें से एक चिट्ठी का भी जवाब नहीं आता। वह उन चिट्ठी में यही लिखता है कि अगर वह उससे प्यार करती है तो जरूर मिलने के लिए मैं आऊंगा। वह लीना के जवाब का इंतजार कर रहा होता है। दरअसल वह चिट्टियां लीना को कभी मिली ही नहीं होती हैं।उन चिट्ठियों को लीना की मां ने कभी उस तक पहुंचने ही नहीं दिया। टर्मन भी अब हार मान चुका है। इसके बाद टर्मन को और उसके दोस्त को जंग के लिए वर्ल्ड वॉर 2 में जाना पड़ता है। और वहां पर टर्मन के दोस्त की मृत्यु हो जाती है। वहीं दूसरी तरफ यह दिखाया जाता है कि अब लीना ग्रेजुएशन के फाइनल ईयर में है और वह नर्स बनने का फैसला करती है। और उसके वार्ड में जितने भी मरीज होते हैं उन सब में उसे टर्मन का चेहरा दिखाई देता है। यहां पर एक मरीज होता है वह एक आर्मी ऑफिसर है और बहुत ही अच्छे घर से है वह घायल होता है। और जब लीना उसकी सेवा करती है तो वह उससे कहता है कि मैं तुम्हारे साथ डेट पर जाना चाहूंगा। लीना कहती है कि पहले तुम अपने आप को ठीक तो कर लो उसके बाद हम बात करेंगे। और कुछ दिनों के बाद यह दिखाया जाता है कि जब लीना अपने दोस्तों के साथ कॉलेज जा रही होती है तो वही आदमी जो उसे हॉस्पिटल में डेट पर जाने के लिए कह रहा था। वह अब बिल्कुल ठीक हो चुका है। वह लीना से एक बार फिर से डेट पर चलने के लिए कहता है। लीना इस बार हां कर देती है और दोनों डेट पर जाते हैं। इस लड़के का नाम होता है कैप्टन जॉन। धीरे धीरे वक्त भी पता है और दोनों एक दूसरे के साथ बहुत इंजॉय करते हैं। 1 दिन कैप्टन जॉन लीना को प्रपोज कर देता है।

वह कहता है कि मैंने तुम्हारे माता-पिता से परमिशन ले ली है वह भी इस रिश्ते के लिए राजी हैं। और दोनों की शादी पक्की हो जाती है। लीना बहुत खुश होती है क्योंकि वह अपने अतीत को बहुत हद तक भूल चुकी होती है। वहीं दूसरी तरफ दिखाया जाता है कि टर्मन भी जंग से वापस आ चुका है।वापस आने के बाद उसके पिताजी बताते हैं, कि उन्होंने अपना घर बेच दिया। ताकि टर्मन अपने सपने को पूरा कर सके। दरअसल टर्मन का सपना होता है उस घर को खरीदने का जहां वह लीना को ले गया होता है। टर्मन किसी भी तरह से उस घर को ठीक करना चाहता है। और वह सामान लेने के लिए शहर जाता है। वहां पर वह लीना को देखता है वह अपने मंगेतर के साथ बहुत खुश होती है। वहां पर उन दोनों को देखकर टरमन को बहुत दुख होता है, लेकिन फिर भी टर्मन का यह मानना है की अगर वह इस घर को बना दिया तो एक बार लीना इस घर को देखने जरूर आएगी। वह दिन रात मेहनत करके अपने सपने को उस घर को खड़ा कर देता है।घर बहुत सुंदर लगता है इसके सामने एक बहुत ही खूबसूरत झील होती है। कहानी एक बार फिर से प्रजेंट में आती है जहां पर ड्यूक उस बीमार लेडी को यह कहानी सुना रहे होते हैं। वहां पर नर्स आती है। और कहती है, कि खाने का वक्त हो गया है दोनों खाना खाने के लिए चले जाते हैं। खाने की टेबल पर बहुत दिमाग लेडी पूछती है कि क्या टर्मन और लीना एक दूसरे से मिले। मै पूरी कहानी पहले बता कर कहानी का मजा खराब नहीं करूंगा। दरअसल उस बीमार लेडी को भी इस कहानी में बहुत इंटरेस्ट आने लगता है। ड्यूक इसके बाद एक बार फिर से कहानी शुरू करता है।वह बताता है कि टर्मन के पिता की मृत्यु हो जाती है इसके बाद उसके पास इस घर के अलावा कुछ भी नहीं बचता। और उसके बाद तर मन को कुछ भी समझ में नहीं आता कि वह क्या करें।शुरू में कुछ दिनों तक वह अपने आप को शराब में डूबा लेता है।इसके बाद वह उस घर को बेचने का फैसला करता है और पेपर में उस घर के साथ अपनी फोटो लगवा देता है। कई लोग इस घर को खरीदने के लिए भी आते हैं लेकिन टर्मन इस घर को बेच ही नहीं पाता। दरअसल इतने साल गुजर जाने के बाद भी टर्मन लीना को आज भी नहीं भूल पाता। और दूसरी तरफ लीना कैप्टन जॉन से शादी कर रही होती है।और इसमें लीना की कोई गलती नहीं होती उसने टर्मन के खत का कई सालों तक इंतजार किया।और जब लेना अपनी शादी की ड्रेस पहन कर देख रही होती है तभी उसकी एक दोस्त उसे न्यूज़पेपर दिखाती है और बताती है कि तुम्हारी शादी में गवर्नर भी आ रहे हैं। जब लेना न्यूज़पेपर देखती है तो उसके नीचे एक ऐड होता है, और यह ऐड होता है टर्मन का। इस न्यूज़ को देखने के बाद लीना बेहोश हो जाती है। जब वह होश में आती है तो उसकी वह फीलिंग जो कहीं ना कहीं उसे दबा दि है। वह एक बार फिर से जिंदा हो चुकी है।और वह उस जगह जाती है जहां पर टर्मन ने उस घर को ठीक उसी तरह बनाया है जैसा कभी लीना ने कहा था। यह दोनों एक दूसरे को देख कर हैरान होते हैं क्योंकि इन्होंने सोचा भी नहीं था कि इतने सालों के बाद यह लोग इस तरह मिलेंगे। लीना टर्मन को बताती है कि मैं शादी करने वाली हूं। तरुण मुझसे पूछता है कि क्या तुम मुझसे प्यार करती हो वह कहती है कि हां मैं उससे बहुत प्यार करती हूं और इसके बाद दोनों साथ में डिनर भी करते हैं। टर्मन पूछता है कि क्या तुम यहां पर सुबह में आ सकती हो मैं तुम्हें एक जगह लेकर जाना चाहता हूं। अगली सुबह ली ना वहां पर आती है और दोनों एक नाव में नदी के सैर करते हैं। लीना कहती है कि जैसा तुमने कहा था वैसा तुमने किया तुमने उस घर को वैसा ही बनाया जैसा हमने सोचा था। तुमने बहुत खूबसूरत बनाया है। टर्मन कहता है, कि मैंने तुमसे वादा किया था। यह सुनकर लीना इमोशनल हो जाती है। तभी वहां पर बादल गरजने लगते हैं और बारिश होने लगती है और दोनों किनारे पर वापस आ जाते हैं। मां से उतरने के बाद लीना से रहा नहीं जाता वह कहती है की मैंने 4 साल तक तुम्हारे खत का इंतजार किया और तुमने मुझे एक भी खत नहीं दिखा। टरमन कहता है, कि मैंने तुम्हें 365 दिन में 365 खत लिखा था। तुम्हारे एक भी खत का जवाब नहीं आया। लीना पूछती है कि क्या सच में। टर्मन कहता है कि हां यह सच है। लीना कहती है कि बहुत देर हो चुकी है सब कुछ खत्म हो चुका है। टर्मन कहता है, कि कुछ खत्म नहीं हुआ। और वह उसे अपने गले से लगा लेता है। लीना अपने मां से पूछती है कि आपने चिट्ठियों के बारे में मुझे क्यों नहीं बताया। और इसके बाद लीना की मां उसे एक जगह पर ले जाती है जहां पर कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा होता है।

वह उसे एक आदमी को दिखाती है और कहती है कि हम दोनों एक दूसरे से दिलो जान से प्यार करते थे लेकिन तुम्हारे ग्रैंडपा को यह रिश्ता मंजूर नहीं था। लेकिन हम फिर भी घर से भागे लेकिन पुलिस ने हमें पकड़ लिया और इसके बाद मेरी शादी तुम्हारी पिताजी से हो गई। पर मैं तुम्हारे पिताजी से प्यार करती हूं वह एक अच्छे इंसान है।लेकिन कभी-कभी जब मैं यहां आती हूं तो सोचती हूं कि मेरी जिंदगी कितनी अलग हो सकती थी। दरअसल उसकी मां उसे यह बताती हैं कि तुम अपने प्यार को किसी भी हालत में मत खोना क्योंकि हम जिंदगी में किसी से शादी कर सकते हैं, किसी के साथ रह सकते हैं, लेकिन हर किसी से हम प्यार नहीं कर सकते। पर इसके बाद लीना की मां उसे टर्मन के पास ले जाती है। और उसे वह सारी चिट्ठियां भी दे देती हैं जो टर्मन ने लीना के लिए लिखा था। लेकिन लीना के लिए सिचुएशन बहुत मुश्किल होती है एक तरफ टर्मन है जिससे वह प्यार करती है और टर्मन भी उससे बहुत प्यार करता है। और दूसरी तरफ उसका मंगेतर जो जो लीना से बहुत प्यार करता है। जिसने उसका हमेशा साथ दिया और अब फैसला करना बहुत मुश्किल हो गया है।टर्मन कहता है कि तुम मुझे छोड़कर नहीं जा सकती मैं अपनी जिंदगी का हर पल तुम्हारे साथ बिताना चाहता हूं। लीना कहती है कि पहले बात कुछ और थी मुझे जाना होगा। होटल में मेरा मंगेतर मेरा इंतजार कर रहा है। पर मन कहता है कि यह मत सोचो कि मैं क्या चाहता हूं कोई और क्या चाहता है। यह सोचो कि तुम क्या चाहती हो। लीना कहती है कि फिलहाल मुझे जाना होगा। और वह अपनी गाड़ी से चली जाती है।और वाटर मन के उन सभी चिट्ठियों को पड़ती है जो कभी टर्मन ने लीना के लिए लिखा था। एक चिट्ठी में वह यह पड़ती है कि सच्चा प्यार वह होता है जो हमारे दिलों में एक दूसरे को जगह दे। जो हमारे दिमाग को सुकून दे और मुझे तुमसे यह सब कुछ मिला है। मैं भी तुम्हें यह सब कुछ देना चाहता हूं। मैं तुमसे प्यार करता था, और करता रहूंगा। अब लेना अपने मंगेतर से मिलती है और उसे सब कुछ सच-सच बता देती है। बस हो गई उसका मंगेतर कहता है कि मेरे पास तीन चॉइस है मैं उसे मार दूं दूसरा मैं उसके हाथ पैर तोड़ दूं और तीसरा मैं तुम्हें छोड़ दूं। लेकिन यह सब करना बेकार होगा क्योंकि मैं कुछ भी कर लूं तुम मेरी नहीं हो सकती। और मैं तुमसे हमेशा प्यार करता रहूंगा और मैं नहीं चाहता कि मुझे अपनी मंगेतर से विनती करनी पड़ेगी तुम मेरे साथ रहो। अब कहानी प्रजेंट में आ जाती है जहां पर मिस्टर ड्यूक उस बीमार लेडी को कहानी सुना रहे हैं। और वह बूढ़ा आदमी है बताते हैं कि इसके बाद दोनों हमेशा साथ साथ रहे। बीमार लेडी पूछती है कि कौन-कौन वह बूढ़ा आदमी उसका जवाब नहीं देता है। यहां पर जो बूढ़ी औरत होती है उसका नाम लेना होता है और जो ड्यूक है जो बूढ़ा आदमी है उसका नाम पर मन होता है।

यह Story आपको कैसी लगी comment करके जरुर बताएं. इस तरह की Movie Stories पड़ने के लिए Subscribe करें.

दरअसल लीना को एक मेंटल बीमारी होती है इस बीमारी में इंसान सोचने की शक्ति खो देता है पिछली यादों को भूल जाते हैं जो लेना है उसे सब कुछ अब याद आ जाता है अंत में उसका मंगेतर उसे जाने की इजाजत दे देता है और वह टर्मन के पास जाती है और इसके बाद दोनों हमेशा के लिए एक साथ रहते हैं। आज इनका एक परिवार है इनके बच्चे हैं उनके नाती पोते हैं। लेकिन लीना इस बीमारी की वजह से किसी को भी नहीं पहचानती। उसे याद आने के बाद वह टर्मन के गले लग कर बहुत रोती है। वह पूछती है कि मुझे क्या हो गया था। तन मन कहता है कि कुछ दिनों के लिए तुम मुझसे दूर हो गई थी।

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

%d bloggers like this: