Rich Dad Poor Dad Summary in hindi

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi

Rich Dad Poor Dad Book Summary in hindi: रॉबर्ट कियोसाकी की किताब Rich Dad Poor Dad को Rich Dad Poor Dad Summary in hindi आर्टिकल के जरिए इसकी जानकारी दे रहा हूँ। यह वह किताब है जिसको पढ़ कर बहुत सारे लोगों ने अपनी जिंदगी को बदल दी है. इस किताब की मैं आपको 10 खास बातें बताने जा रहा हूं जो बहुत ही खास और लाइफ चेंजिंग है.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi
Rich Dad Poor Dad Summary in hindi

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 1

सबसे पहली बात है, हम सब अपनी जिंदगी में अपने अनुभव से सीखते हैं. Rich Dad Poor Dad किताब में रॉबर्ट बताते हैं कि कैसे उन्होंने अपने दोस्त के Dad के साथ काम शुरू किया. वह अपने Dad को हमेशा Poor Dad कहकर बुलाते थे. उनके dad का कहना था कि अपने स्कूल के एजुकेशन में पूरा ध्यान दो वो हमेशा उन्हें अच्छे नम्बरों से पास होने की सलाह देते ताकि उन्हें अच्छी नौकरी मिल सके. लेकिन रोबर्ट के दोस्त के dad जिन्हें वह हमेशा Rich dad कह कर बुलाते हैं उनकी सलाह यह थी कि अगर तुम ये समझ जाओ की पैसा किस तरह काम करता है तो उन्हें पैसों की कभी कमी ही नही होगी। शुरू में रोबर्ट Zerox कम्पनी के लिए काम करते थे क्योंकि उस समय Zerox कम्पनी अच्छी सैलेरी देती थी. रोबर्ट बोलते हैं कि लाइफ में सक्सेस होने के लिये बेचने की कला आना या सीखना बहुत जरूरी है. अपने प्रैक्टिकल लर्निंग की वजह से वह अच्छे Sales man में से एक हो गए और नौकरी से जरूरी चीजें सीख लेने के बाद नौकरी को छोड़ दिया. यहां पर हमारे लिए जरूरी लेशन यह है की सिर्फ कॉलेज के डिग्री लेना हमारे लिए काफी नहीं है. कामयाब होने के लिए बोल्ड होकर सीधे मैदान में उतरना होगा और वहां से चीजों को सीखना होगा जिंदगी में ज्यादा कामयाब लोग ज्यादा स्मार्ट नहीं होते बल्कि बोल्ड लोग होते हैं.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 2

Robert कहते हैं आप सबसे पहले खुद को Pay करो. यह बात सबसे पहले किताब “The Richest Man of Babylon” में लिखी गई थी. रोबर्ट  ने इस बात को अपनी जिंदगी का सबसे बड़ा रूल बना लिया. रॉबर्ट बताते हैं कि ज्यादातर लोग अपनी सैलरी मिलने से पहले ही उसको खर्च करने का उपाय ढूंढ लेते हैं या रास्ता बना लेते हैं. और फिर ज्यादातर समय उनके खर्चे पूरे ही नहीं हो पाते. इन सबके बीच में सेविंग तो बहुत दूर की बात है इसलिए जब भी आपको अपनी सैलरी मिलती है तो उसका 10% हमेशा अपने पास रख लो. इस 10% को आप अपना सिर्फ अर्निंग की तरह समझो. इसका मतलब यह नहीं है कि आप इन पैसों को अपनी मर्जी से कहीं भी उड़ा दो बल्कि इन पैसों को आपको किसी अच्छे जगह इन्वेस्ट करना चाहिए जो बाद में आपके लिए पैसिव इनकम का काम करेगा. ये 10% पैसा कमाने का मकसद सिर्फ उसको खर्च करना नहीं है बल्कि फाइनेंसियल इंडिपेंडेंट का मकसद होना चाहिए. अगर आप  इंडिपेंडेंट होना चाहते हैं तो सबसे पहले आपको खुद को Pay करने की आदत डालनी पड़ेगी.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 3

आप किसी भी चीज के बारे में यह मत सोचो क्या उसे नहीं पा सकते बल्कि आप खुद से सवाल पूछो कि आप उसे कैसे पा सकते हैं? बचपन में रॉबर्ट के पुअर डैड हमेशा उनसे कहते थे कि हम यह नहीं खरीद सकते वह नहीं खरीद सकते लेकिन रिच डैड ने उन्हें ऐसा कभी नहीं सिखाया कि यह नहीं खरीद सकते वह नहीं खरीद सकते हैं बल्कि उन्होंने उन्हें यह सिखाया की तुम खुद से पूछो कि तुम इन चीजों को कैसे खरीद सकते हो?  उन्होंने रोबर्ट को बताया कि जब तुम अपने दिमाग से सवाल करते हो की इस चीज़ को कैसे खरीदा जा सकता है तो हमारा दिमाग पूरी तरह से एक्टिव होकर इसका जवाब खोजता है. दिमाग में अगर यह संदेश जाता है की हम ये चीज़ नही खरीद सकते हैं तो दिमाग उस चीज़ पर कोई हरकत ही नही करता. इसका परिणाम यह होता है की हम अपने आप को उसी अवस्था में ही रोक देते हैं.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: lesson 4

फाइनेंसर इंटेलिजेंस सीखना जरूरी है क्योंकि आपके पास कितना भी पैसा क्यों ना हो अगर फाइनेंसियल इंटेलिजेंस नहीं है तो आपके सारे पैसे बहुत ही जल्द खत्म हो जाएंगे. जैसा कि लॉटरी जीतने वाले लोगों के साथ होता है. उन लोगों को लगता है अमीर बनने के लिए बहुत सारे पैसे होने की जरूरत है मगर यह बात उन्हीं लोगों के लिए सही है जिनके पास फाइनेंसियल इंटेलिजेंस है. जिनके पास फाइनेंशियल इंटेलिजेंस नहीं है उनके पास कितना भी पैसा क्यों ना आ जाए वह आसानी से खत्म हो जाता है. आपको लॉटरी जीतने वाले कई सारे लोग दिख जाएंगे जिनके पास पैसा तो बहुत आया मगर वापस से फिर से गरीब बन गये क्योंकि उनके पास फाइनेंसियल इंटेलिजेंस कुछ था ही नहीं तो अगर आप अमीर बनना चाहते हैं तो उसके लिए आपको फाइनेंसियल इंटेलिजेंट बनने की बहुत ज्यादा जरूरत है. इंटेलिजेंस फाइनेंशियल इंटेलिजेंस पैसों को काम करने के तरीके को समझने से आती है. कुछ लोग पैसे के बारे में कुछ भी नहीं जानते हैं उन्हें यह भी नहीं पता कि उनसे कितने पैसे टैक्स के रूप में लिया जा रहे हैं. यहां तक की बहुत सारे पढ़े लिखे लोग भी इस कमी से जूझ रहे हैं. फाइनेंशियल इंटेलिजेंस की सबसे बड़ी कमी के वजह है मौजूदा एजुकेशन सिस्टम आज भी स्कूलों में फाइनेंसियल एजुकेशन नहीं दी जाती. उन्हें कभी भी फाइनेंस हैंडल करने नहीं दिया जाता. तो अगर आप अमीर बनना चाहते हैं तो आप फाइनेंसर इंटेलिजेंस के बारे में अच्छी तरह से समझो और जानो.

दोस्तों अगर आप इस किताब Rich Dad Poor Dad को पूरी तरह पढ़ना चाहते हैं तो आप इस लिंक पर क्लिक करके पढ़ सकते हैं.
दोस्तों अगर आप इस किताब Rich Dad Poor Dad को खरीद कर पढ़ना चाहते हैं तो आप इस लिंक पर क्लिक करके खरीद सकते हैं.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 5

रॉबर्ट बताते हैं कि आप लायबिलिटी की जगह एसेट खरीदो. इन दोनों में अंतर को रॉबर्ट आसान शब्दों में बताते हैं कि जो भी चीज आपके पॉकेट से पैसे निकाले वह लायबिलिटी है और जिसकी वजह से पैसे आए वह एसेट है. कई सारे लोग फाइनेंसियल इंटेलिजेंस की कमी की वजह से एसेट की जगह लायबिलिटी खरीदने में लगे हुए हैं। जैसे महंगे मोबाइल , कार, TV, वगैरह वगैरह। भले ही उनकी वह चीजें उनके networth को कम कर दें। और ये सब चीजें लैबलिटी ही हैं क्योंकि ये सब चीजें उनके पॉकेट से पैसे निकलती है ना कि डालती हैं। यहां पर रॉबर्ट घर के बारे में भी बोलते हैं कि अगर आपका घर से आपको पैसे ना देकर ले रहा है तो वो भी लैबलिटी है ना कि एसेट। मगर अगर आपके घर से रेंट आ रहा है तो वह एसेट है। अमीर आदमी हमेशा अपने पैसों को अच्छी जगह ही इन्वेस्ट करता है। और आम आदमी अपने पैसों को लैबलिटी खरीदने में खर्च कर देता है। अगर अमीर बनना चाहते हो तो आपको एसेट खरीदने पर ध्यान देना चाहिए ना कि लैबलिटी खरीदने पर।

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 6

जो पैसे आपने एसेट खरीदने में लगा दिए उस पैसों को आप कभी भी मत छुईये। ये एसेट आपके एम्प्लोयी की तरह होते हैं जो आपको हमेशा पैसा कमा कर देते हैं। इसलिये रॉबर्ट कहते हैं कि आप अपने एसेट से पैसे तभी निकालो जब आप उसका और बेहतर इस्तेमाल कर सकते हो। वो ऐसा इसलिए कहते हैं कि अगर आप अपने एसेट को liqvidat करते हो तो ज्यादा जल्दी खर्च हो जाते हैं।और आप पैसा कमाने की opporchunity खो देते हो। इसलिए आपको एसेट से पैसे नही निकालने चाहिए। उसकी जगह आपको यह सोचना चाहिए कि कैसे आप और ज्यादा इसमे invest कर सकते हो। ताकि आप और ज्यादा पैसे कमा सको.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 7

रॉबर्ट के गरीब dad हमेशा hardwork में belive करते थे। वो हमेशा उन्हें स्कूल में मेहनत करने बोलते ताकि उन्हें आसानी से Stable job मिल सके। poor dad उन्हें हमेशा कहते थे कि कम्पनियां उन एम्प्लोयी को पसंद नही करती है जो हर साल अपनी नौकरी बदलते रहते हैं। कम्पनिया उन एम्प्लोयी को पसंद करती है जो अपना पूरा समय कम्पनी को दे दे। रॉबर्ट के Rich Dad ने सलाह दी कि दूसरे की सी लिफ्ट में जाने से अच्छा अपना खुद का रास्ता तैयार करने में है। मतलब आदमी को अपने खुद के काम पर ध्यान देना चाहिए। खुद के काम से मतलब यह नही है कि आप अपनी नौकरी को तुरंत छोड़ देना चाहिए। इसका मतलब यह है कि जब आप किसी और का काम कर रहे हो तो उस काम से आपको वो सारी जरूरी बातें सीखनी चाहिए जो आपको अपने काम को बड़ाने में मदद कर सकती है।

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 8

हमारे पैसों के मामले में सक्सेस इस बात पर निर्भर करता है की हम अपने डर को कितने अच्छे से सम्भाल सकते हैं आमिर और गरीब के बीच इस बात का सबसे बरा अंतर उनके डर को सम्भालने के तरीके को लेकर होता है आपको याद होगा की कैसे बचपन में साइकिल चलाने के वक्त कितनी बार गिरे थे अभी भी बहुत सारे लोगों को साइकिल चलानी नही आती इसलिए की नही की उन्हें साइकिल चलाने का मौका नही मिला बल्कि इसलिए की उन्होंने अपने डर की वजह से सीखना ही नहीं चाहा. उन्हें गिरने से डर लगता था. इसी तरह कुछ लोग इसलिए फाइनेंसियल फ्री नहीं हो पाते क्यूंकि उन्हें कोई भी फाइनेंसियल डिसीजन लेने में डर लगता है. जबकि सच यह है की कोई भी काम बिना रिस्क लिए नही होता. रोबर्ट यह बताते हैं की कैसे रिच डैड उन्हें जितने से ज्यादा हारने को अच्चा मानते थे क्यूंकि हार उन्हें ज्यादा सीखने का मौका देती थी. वो बताते हैं की की रिच डैड कैसे एक साहसी आदमी की तरह जीते थे और हर हार के बाद उनके जीतने की चाहत और बढ़ जाती थी. आमतौर पर आप हमेशा जीतने से पहले हारते हो मगर ये आप पर निर्भर करता है की आप उस हार के बाद किस तरह का रिअक्स्न करते हो.

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 9

किताब में रोबर्ट एक जर्नालिस्ट से बात करते हैं जिसके पास मास्टर की डिग्री होती है. रोबर्ट बताते हैं की जब उन्होंने जर्नालिस्ट को सेलिंग सीखने की सलाह दी तो वे शर्मिंदा हो गये. रोबर्ट मानते हैं की वो एक बेस्ट सेलिंग ऑथर इसलिए हैं की उन्हें चीजों को बेचना आता है ना कि वो केवल ऑथर हैं. अगर आपको चीजें बेचनी नहीं आती तो तो इससे कोई फर्क परता है की आप कितने Skilled हैं. अगर आपको आमिर बनना है तो आपको चीजों को बेचने की आना ही चाहिए. आप जितने भी सक्सेस लोगों को देखते हैं उन्होंने बेचने की कला को सीखा है.

Subscribe

[email-subscribers-form id=”1″]

Rich Dad Poor Dad Summary in hindi: Lesson 10

आप खुद से ज्यादा टैलेंटेड लोगों को काम पर रखो और उन्हें अच्छी तनख्वाह दो. इस किताब में रोबर्ट बताते हैं की एक अच्चा बिज़नस मैन खुद से अच्चा वर्कर रखता है. वो लोगों को अपना सबसे अच्चा एसेट मानता है. रोबर्ट बताते हैं की आपके स्टाफ को सैलेरी बढ़ाने से बोलने से पहले आपको उनकी सैलेरी बढ़ा देनी चाहिए. इससे वो ज्यादा मन लगाकर अपने काम को करते हैं जिससे आपकी आमदनी में ज्यादा इजाफा होता है.    

Also Read    

The 4 hour work week book summary in hindi

Rabbit Proof Fence movie in hindi