Predestination Movie Story in hindi

प्रीडेस्टिनेशन कहानी टाइम ट्रेवल पर आधारित है। एक आदमी है जो एक संस्था के लिए काम करता है, और टाइम ट्रेवल से पास्ट में जाकर पास्ट में जो घटनाएं हुई हैं उनको बदलता है। इसका नाम है जॉन। जॉन को सन 1992 से 1975 में भेजा जाता है। यानी कि पास्ट में भेजा जाता है। दरअसल इस साल एक बहुत बड़ा बम ब्लास्ट हुआ था। जिसमें 10000 लोग मारे गए थे। जॉन को पास्ट में भेजकर इस ब्लास्ट को रोकना चाहते हैं। जॉन 1975 में जाकर उसी जगह पहुंचता है, जहां पर वह बम है, और जब वह बम को डिफ्यूज करने की कोशिश कर रहा होता है, तभी उसको ऐसा लगता है कि यहां पर कोई और भी है, और वह बम को डिफ्यूज करना छोड़ कर, उस आदमी को ढूंढना शुरू कर देता है, और वह आदमी उसे मिल जाता है। यह वही आदमी होता है, जिसने यह बम लगाया होता है। अब इन दोनों के बीच में फायरिंग होना शुरू हो जाती है। यानी कि यह एक दूसरे को मारना चाहते हैं। अब इन दोनों की आपस में लड़ाई होते होते बम के फटने का टाइम हो जाता है। बम फटने की वजह से जॉन का मुंह जल जाता है। तभी वहां पर एक और आदमी आता है, वह जॉन की तरफ उसकी टाइम मशीन बढ़ाता है। जॉन टाइम मशीन के जरिए सन 1992 में वापस चला जाता है। लेकिन उसका पूरा चेहरा जल चुका है। इसीलिए उसके चेहरे की प्लास्टिक सर्जरी करके उसके पूरे शक्ल को बदल दिया जाता है। धीरे-धीरे वक्त आगे बढ़ता है। जॉन पूरी तरह से ठीक हो जाता है। इसके बाद जॉन को एक और मिशन पर भेजा जाता है। यह जॉन की जिंदगी का आखरी मिशन है। इसके बाद वह रिटायर हो जाएगा। यहां पर साल 1970 में यह एक बार कीपर का काम करता है। 1 दिन उसी बार में जॉन आता है, यानी कि वह जॉन जो 1970 का है।

Hollywood Movies in hindi

यहां पर आप कुछ बातें अच्छे से समझ ले। यहां पर जो जॉन बैठा हुआ है जो 1970 से आया है उसकी प्लास्टिक सर्जरी हो चुकी है। तो इसका पूरा चेहरा बदल चुका है। और जो इसका पास्ट रूप है, जो कि 1970 का जॉन है, उसको यह बात पता नहीं होगी, क्योंकि यह उसके फ्यूचर की बात है। जो 1970 का जॉन है वह अपने फ्यूचर के रूप को नहीं पहचान पाता, यानी कि जिस जॉन की प्लास्टिक सर्जरी हो चुकी है, उस जॉन को नहीं पहचान पाता है। लेकिन फ्यूचर वाला जॉन यह पहचान लेता है, कि यह मेरा ही रूप है। और वह दोनों आपस में बात करना शुरू करते हैं। 1970 का जॉन, बारकीपर यानी कि फ्यूचर के जॉन को अपनी कहानी सुनाना शुरू करता है। वह बताता है, कि मेरे मां-बाप ने मुझे एक अनाथ आश्रम के बाहर छोड़ दिया था। और जब मैं पैदा हुआ था मैं एक लड़का नहीं था, बल्कि एक लड़की थी। लेकिन अनाथ आश्रम में मैंने पाया कि मुझ में एक अलग ही शक्तियां थी। जो शक्तियां लड़कियों में होती है उससे कहीं ज्यादा शक्तियां मेरे अंदर थी। और मुझे किसी ने कभी गोद नहीं लिया था। वह उसे यह भी बताता है, कि आज मेरा नाम जॉन है। लेकिन पहले मेरा नाम जिन था। इसके बाद बारकीपर को बताता है, कि मैं एक लड़की के रूप में बड़ी हुई। और मुझे एक स्पेस प्रोग्राम में जाने का मौका मिला। मैं अंतरिक्ष में जाना चाहती थी। वहां पर मेरी मुलाकात, मिस्टर रोबोटसन से हुई।

Hollywood Top Movies in hindi

वह भी मुझे ले जाना चाहते थे। लेकिन मुझे रिजेक्ट कर दिया गया क्योंकि उसकी फिजियोलॉजी में कोई प्रॉब्लम थी।फिजियोलॉजी में प्रॉब्लम यह होती है, कि उसके अंदर मेल और फीमेल दोनों के ऑर्गन होते हैं। दोनों हारमोंस होते हैं। लेकिन फीमेल वाले हार्मोन ज्यादा विकसित होते हैं, इसीलिए जॉन एक लड़की के रूप में बड़ा होता है। यह बात मिस्टर रोबोटसन, जिन को नहीं बताते। वह उसे कहते हैं, कि तुमने एक लड़की पर हाथ उठाया था। इसलिए हम तुम्हें इस प्रोग्राम में शामिल नहीं कर रहे हैं। इस बात से जिनको बहुत दुख होता है। लेकिन अब जिन को अपनी जिंदगी में आगे बढ़ने के अलावा कोई चारा नहीं है। और वह अपनी जिंदगी में आगे बढ़ती है। उसी दौरान उसकी मुलाकात एक लड़के से होती है। जिन को उस लड़के से प्यार हो जाता है, वह लड़का भी जिन से बहुत प्यार करता है। एक दिन वह अजनबी लड़का जिन के पास आता है। और उससे कहता है, कि मुझे जाना होगा। और अब मैं शायद कभी वापस ना आऊं। इस बात से जिन को बहुत दुख होता है। बाद में यह पता चलता है, कि जिन प्रेग्नेंट है। वह मां बनने वाली है। वह एक लड़की को जन्म देती है। उस लड़की के जन्म के बाद डॉक्टर जिन को बताते हैं, कि तुम्हारी बॉडी में मेल और फीमेल दोनों ऑर्गन थे। जो पूरी तरह से डेवलप्ड थे। क्योंकि डिलीवरी में बहुत कॉम्प्लिकेशन थी, इसीलिए हमने फीमेल वाले ऑर्गन को पूरी तरह से हटा दिया है। भविष्य में तुम्हें एक मेल बनकर रहना पड़ेगा। क्योंकि तुम्हारे अंदर मेल और फीमेल दोनों ऑर्गन थे। इस बात से जिन को बहुत दुख होता है। अब हॉस्पिटल से जिन की बेटी को कोई चुरा लेता है। जिन उसे ढूंढने की बहुत कोशिश करती है, लेकिन उसका कुछ पता नहीं चलता। धीरे-धीरे जिन लड़कों के तौर तरीके अपनाना शुरू कर देती है। और वह अपना नाम जिन से बदलकर जॉन कर देती है। जॉन को लगता है, कि जो बार कीपर है, वह उसकी कहानी पर यकीन नहीं करेगा।

Hollywood full Movies in hindi

क्योंकि उसकी कहानी बहुत अजीब है इसलिए। लेकिन बार कीपर उसकी कहानी पर यकीन करता है, क्योंकि यह उसकी अपनी खुद की कहानी होती है। जो उसे सब कुछ पहले से पता होती है। वह उसे कहता है, कि मैं तुम्हें उस अजनबी इंसान से मिलाऊंगा जिसने तुम्हें प्रेग्नेंट किया था। वह बार कीपर टाइम मशीन के जरिए जॉन को उस जगह पर ले जाता है। जहां पर वह अजनबी उसे छोड़ कर गया था। जॉन के पास गन होती है। वह जिन से मिलता है यानी कि अपने आप से मिलता है। वह अपने पास्ट में गया है, और वह अब एक लड़का है। जीन उसे नहीं पहचान सकती कि यह मेरा फ्यूचर का रूप है। जॉन जब जिनको देखता है, तो उसे देखते ही प्यार हो जाता है। जॉन यह समझ जाता है, कि मैं ही वह इंसान हूं, जिसे मैं खुद ढूंढने आया हूं। यानी कि जॉन वही लड़का होता है, जो जीन को छोड़कर गया होता है। कहने का मतलब यह है, कि जॉन वही लड़का होता है, जो पास्ट में आकर जीन से मिलता है, उससे प्यार करता है, और वह प्रेग्नेंट हो जाती है। यहां पर यह गुत्थी सुलझ जाती है, की जॉन, जीन, बार कीपर, और वह इंसान जो जिन के बच्चे का बाप है, यह चारों इंसान एक ही है। जो अलग-अलग वक्त के इंसान हैं। जिस समय जीन और जॉन बात कर रहे होते हैं, उस समय बार कीपर टाइम मिशन के जरिए 1975 में चला जाता है। क्योंकि उसे उस बम को डिफ्यूज करना है। जब वह वहां पर पहुंचता है, तो देखता है, कि एक आदमी बम लगा रहा है। इस आदमी का नाम होता है, फिजल। यहां पर फिजल की और बारकीपर की लड़ाई होती है। इस लड़ाई में बार कीपर बेहोश हो जाता है। जब उसे होश आता है, तो वह देखता है, कि एक आदमी का चेहरा जल रहा होता है। यह वही सीन होता है जो कहानी के शुरुआत में दिखाया जाता है। तभी बार कीपर उसे उसकी टाइम मशीन देता है। और वह टाइम मशीन के जरिए सन 1992 में पहुंच जाता है।

Hollywood full Movies Story in hindi

यह आदमी खुद जॉन होता है, जो अपने उस रूप को मशीन देता है, जब उसका चेहरा नहीं जला हुआ था। यानी कि यह दोनों अलग-अलग समय से आए हैं। इसीलिए एक जगह इकट्ठे हो जाते हैं। इसके बाद बार कीपर उस समय में जाता है, जिस समय जीन एक लड़की को जन्म दिया होता है। वह उस लड़की को चुराकर टाइम मशीन के जरिए सन 1945 में ले जाता है। और एक अनाथ आश्रम के बाहर छोड़ देता है। और यह वही अनाथ आश्रम होता है, जहां पर जीन बड़ी हुई थी। यानी कि यह जीन खुद ही होती है जो आगे चलकर जॉन बनती है। कहने का मतलब यह है की बाहर की पर निजी इस बच्ची को चुराया, जॉन, जीन यह सभी लोग एक ही इंसान हैं। यही बच्ची आगे चलकर जीन बनती है। जीन से जॉन बनती है। अब बारकीपर बच्ची को अनाथ आश्रम में छोड़कर टाइम मशीन से उस समय में जाता है, जब जॉन और जिन एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। और दोनों एक साथ होते हैं। बार कीपर जॉन को इशारा करता है, कि अब चलने का वक्त हो गया है। जॉन, बार कीपर के पास जाता है, और उसे कहता है, कि मैं जीन को नहीं छोड़ सकता। बारकीपर उससे बोलता है, कि तुम तो जानते हो कि यह तुम्हारा पास्ट का रूप है। और वह उसे बताता है कि मैं तुम्हारे फ्यूचर का रूप हूं। इस बात से जॉन को धक्का जरूर लगता है, क्योंकि उसके पास्ट का रूप एक लड़की होती है, और उसके फ्यूचर का रूप एक ऐसा आदमी होता है जिसकी शक्ल उससे मिलती नहीं है। इसके बाद जॉन और बार कीपर उस टाइम मशीन के जरिए सन 1985 में जाते हैं। और बार कीपर जॉन को सन 1985 में छोड़कर, खुद सन 1975 में आ जाता है। अब वह यहां पर रिटायरमेंट ले रहा है, क्योंकि उसके रिटायरमेंट का वक्त आ चुका है।

Hollywood full Movie Stories in hindi

वह 1985 में जॉन के लिए एक रिकॉर्डिंग भी छोड़कर जाता है। जिसकी मदद से आगे उसे गाइडेंस मिलती है। आगे चलकर जॉन उसी ऑर्गेनाइजेशन का हिस्सा बन जाता है। जो टाइम ट्रैवल के थ्रू पास्ट में आकर कुछ घटनाओं को बदलने की कोशिश करते हैं। यह एक इंसानियत का काम होता है। जॉन के पास एक मकसद होता है। वहीं दूसरी तरफ यह दिखाया जाता है, कि बार कीपर सन 1975 में है। जिस समय बम ब्लास्ट हुआ था। अभी वह बम ब्लास्ट हुआ नहीं है, क्योंकि बार कीपर अब रिटायर हो चुका है। वह अपने टाइम मशीन को हमेशा के लिए ऑफ करने की कोशिश करता है। लेकिन उसमें कुछ एरर आ जाता है। यानी कि वह रिटायर होने के बाद भी उस मशीन का इस्तेमाल कर सकता हैं। यहीं पर बार कीपर के पास कुछ पेपर होते हैं, वहां उसे कुछ क्लू मिलता है। जो उसके बॉस मिस्टर रोबोटसन ने छोड़ा होता है। जिसके द्वारा वह उस फिजल् बंबर को पकड़ सकता है। उस क्लू के जरिए बार कीपर उस जगह पर पहुंचता है। जहां पर उसे वह फिजल बंबर मिल जाता है। जिसने वह बम लगाया होता है। बार कीपर उस बंबर को देखकर पूरी तरह से हैरान हो जाता है। क्योंकि वह बार कीपर के फ्यूचर का रूप होता है।

बार कीपर को यह पता ही नहीं होता कि वह फ्यूचर में चलकर एक ऐसा आदमी बन जाता है, जो लोगों को बम ब्लास्ट करके मार सकता है। इस फिजल बमबर की दिमागी हालत ठीक नहीं होती है। फिजल बार कीपर से पूछता है, कि जो तुम्हारी टाइम मशीन एरर बता रही है, क्या तुमने ऑर्गेनाइजेशन को रिपोर्ट की है। लेकिन उसने रिपोर्ट नहीं की होती है। वह रिटायरमेंट के बाद भी टाइम टेबल करता है। यह गैरकानूनी है। यहां पर फीजल बार कीपर को कहता है, कि तुम्हें मुझे एक्सेप्ट करना ही पड़ेगा क्योंकि मैं तुम्हारा फ्यूचर हूं। लेकिन बार कीपर यह नहीं कर पाता और वह फिजल को गोली मार देता है। और फिजल मर जाता है। इस कहानी के सभी कैरेक्टर एक ही इंसान है। पर अलग-अलग समय के। भले ही बार कीपर ने फिजल को मार दिया हो। पर फ्यूचर में वह फिजल बंबर बनेगा ही बनेगा। इसका बस एक ही रीजन सामने आता है, कि ज्यादा टाइम ट्रैवल करने की वजह से उसके दिमाग पर असर होता है और वह कहीं ना कहीं अपनी मानसिक संतुलन खोकर बुराई के रास्ते पर चला जाता है। इस कहानी में यह समझाया गया है, कि टाइम ट्रैवलर कुछ भी कर ले पर जो हो चुका है, वह उसे बदल नहीं सकता। यानी कि आप पास्ट में जाकर कुछ भी बदलकर फ्यूचर में कुछ चेंज नहीं कर सकते।