Mother Teresa Biography in hindi

0
(0)

Mother Teresa Biography in hindi: मदर टेरेसा, जब इंसान से दूसरे की पीड़ा तकलीफ नहीं देखी जाती और वह फिर वैसे-वैसे पीड़ित लोगों के लिए अपनी जिंदगी को उन पर निछावर कर दे. तब वह महिला, समाज में मदर के नाम से ख्याति प्राप्त करती है. बिल्कुल यही बात मदर टेरेसा के साथ भी हुई.

Mother Teresa Biography in hindi

मदर टेरेसा का जन्म युगोस्लाविया के स्कोप्जे शहर में 26 अगस्त 1910 को हुआ. वह पहले कैथोलिक चर्च में एक न थी नन थी. इसी समय उनके पास भारतीय नागरिकता भी थी. अपनी उम्र के 18 वर्ष में वह लोरेटो सिस्टरस से दीक्षा लेकर सिस्टर टेरेसा बन गई. जब भारत आई तो सामान्य ईसाई नन की तरह अध्ययन के क्षेत्र से जुड़ गई.

Mother Teresa Biography in hindi: एक दिन कोलकाता में, सेंट मेरिज हाई स्कूल में पढ़ाने के दौरान स्कूल के दीवारों के बाहर कुछ गरीब और असहाय लोगों को देखा. वह लोग काफी पीड़ित दिख रहे थे. मदर टेरेसा से उनकी पीड़ा देखी नहीं जा रही थी. उस दिन के बाद से वह वहां के पास के बस्तियों में जाकर गरीब असहाय लोगों को के बीच सेवा का काम करने लगी. इस बस्ती के बच्चों को पढ़ाने के लिए मदर टेरेसा ने एक स्कूल खोला और उसके बाद मिशनरीज ऑफ चैरिटी की स्थापना की. मदर टेरेसा इन कामों को अपने दिल और इमानदारी से पूरी लगन के साथ काम कर रही थी और उनका यह लगन बढ़ता गया. इसका परिणाम भी आने वाले वक्त में दिखने लगा.

उनके द्वारा किया गया कार्य से काम इतनी तेजी से बढ़ रहा था कि इस संस्था ने करीब 125 देशों में इनका काम फैला दिया. उस समय करीबन 5लाख लोगों की भूख मिटाने में इस संस्था का बहुत बड़ा योगदान था. मदर टेरेसा का मानना था दुखी व्यक्ति की सेवा करना है मानवता का लक्ष होना चाहिए. उस वक्त मदर टेरेसा ने कुष्ट और तपेदिक जैसे रोगियों को भी सहारा दिया. उनकी सेवा ने पूरे विश्व को मदर टेरेसा के शांति और मानवता का संदेश दिया. उनके कामों को देख कर ही  उनको शांति के लिए नोबेल पुरस्कार दिया गया. आज भी उनके द्वारा बनाई गई संस्था मिशनरीज ऑफ चैरिटी की सिस्टर जीवित रखे हुए हैं और सेवा कार्य में पूरी ईमानदारी के साथ अपना जीवन निछावर किए हुए है. वह इन सब कामों को करके इसे ईश्वर के द्वारा उपहार मिला उपहार मानती हैं. यह लोग इंसान को धर्म और जाति से ऊपर उठकर इनकी सेवा करते हैं.

मदर टेरेसा ने निर्मल हृदय और निर्मला शिशु भवन के नाम से आश्रम खोलें भी खोलें. इनकी यह संस्था कई अनाथों का घर भी है. मदर टेरेसा असाध्य रोग से ग्रसित लोगों का सेवा स्वयं करती थी.

पूरी दुनिया में शांति और मानवता का संदेश देने वाली मदर टेरेसा की मृत्यु 5 सितंबर 1997 को हो गयी मगर इनके द्वारा बनाई गई संस्था आज भी उनके द्वारा बताए गए रास्तों पर चल रही है.

Mother Teresa Biography in hindi

वास्तविक नाम  अग्नेसे गोंकशे बोजशियु (Anjezë Gonxhe Bojaxhiu)

उपनाम  कलकत्ता की संत टेरेसा

व्यवसाय अल्बानियाई रोमन कैथोलिक नन

व्यक्तिगत जीवन

जन्मतिथि      26 अगस्त 1910

जन्मस्थान      उस्कुब, उस्मान साम्राज्य (वर्त्तमान सोप्जे, मेसेडोनिया गणराज्य)

मृत्यु तिथि     5 सितंबर 1997

मृत्यु स्थल     कलकत्ता (अब कोलकाता), पश्चिम बंगाल, भारत

राष्ट्रीयता

उस्मान प्रजा (1910–1912)

सर्बियाई प्रजा (1912–1915)

बुल्गारियाई प्रजा (1915–1918)

युगोस्लावियाइ प्रजा (1918–1943)

यूगोस्लाव नागरिक (1943–1948)

भारतीय प्रजा (1948–1950)

भारतीय नागरिक (1948–1997)

अल्बानियाई नागरिक (1991–1997)

गृहनगर स्कोप्जे, मेसेडोनिया गणराज्य

शैक्षिक योग्यता  आयरलैंड के राथफर्नहम में लोरेटो एबे में अंग्रेजी सीखी

परिवार  पिता – निकोला बोयाजू (व्यवसायी

माता – द्राना बोयाजू

भाई – लाज़र बोयाजू

बहन – अगा बोयाजू

धर्म    ईसाई शौक/अभिरुचि   समाज सेवा करना

Also Read

Biography of Kamala Harris in hindi 

Rabbit Proof Fence movie in hindi

Sonu Sood Biography In Hindi

The 4 hour work week book summary in hindi

Homoeopathy Chikitsa (Hindi Edition)

Subscribe     

Loading

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

%d bloggers like this: