Hollywood full Movie Stories in hindi

Life is beautiful Movie Stories in hindi

इस कहानी की शुरुआत एक आवाज से होती है। वह आवाज कहती है कि यह एक साधारण कहानी है। लेकिन इसे सुनाना इतना आसान नहीं है। यह एक कविता की तरह है, जिसमें खुशियां है, दुख हैं, सपने हैं। और अब कहानी आती है सन 1939 में। यह बात है इटली की। यहां पर एक आदमी है जिसका नाम है टर्मन। टर्मन हमेशा खुश रहता है। लाइफ में जैसी भी सिचुएशन हो उसे इंजॉय करता है। लेकिन सबसे बड़ी बात टर्मन बोलता बहुत है। अब यह दोनों शहर जा रहे होते। क्योंकि शहर में टर्मन के अंकल का एक होटल है। जहां पर टर्मन काम करना चाहता है। जब यह जा रहे होते हैं तो इनकी गाड़ी खराब हो जाती है। टर्मन का दोस्त गाड़ी ठीक कर रहा होता है, और टर्मन उसे बड़बड़ करके परेशान कर रहा होता है। वह बोलता है कि 10 मिनट के लिए तुम जाओ मैं गाड़ी ठीक कर दूंगा। टर्मन अपने हाथ धोने के लिए जाता है जहां पर एक बच्ची होती है। वह उससे बोलता है कि मैं यहां का शहजादा हूं। और कहता है कि यह पेड़, पहाड़, पौधे सब मेरे है। सब मुझे विरासत में मिले हैं। तभी एक लड़की की आवाज आती है। टर्मन देखता है, कि एक लड़की ऊपर से गिर रही होती है। जैसे ही वह लड़की गिर रही होती है, टर्मन उसे बचा लेता है। पर मन उससे बोलता है कि तुम घर से हमेशा ऐसे निकलती हो। वह बोलती है, कि नहीं मैं शहद निकाल रही थी। लेकिन एक मधुमक्खी ने मेरे पैर पर काटा। यह सुनते हैं टर्मन जोश में आ जाता है। जहां पर उसके पैर में मधुमक्खी ने काटा था। वहां से वह चूस चूस कर मधुमक्खी के जहर निकालना शुरू कर देता है। टर्मन बोलता है कि मैं आधे घंटे में सारे जहर निकाल दूंगा। दरअसल वह बहाने से उसे चूमना चाहता था। डोरा बोलती है कि नहीं मैं ठीक हूं। इसके बाद टर्मन वहां से जाने लगता है। और कहता है नूरे मल्लिका मुझे आपको देखते ही प्यार हो गया। डोरा बोलती है कि मैं आपका शुक्रिया किस तरह अदा कर सकती हूं। वहां पर कुछ अंडे होते हैं, टर्मन बोलता है, कि मैं कुछ अंडे ले लेता हूं। जब मैं आमलेट खा लूंगा तो इन पलों को याद करूंगा। टर्मन कुछ अंडे अपनी जेब में रख कर वहां से निकल जाता है। अब टर्मन शहर पहुंचकर अपने अंकल से मिलता है। उसके अंकल उसे रहने के लिए घर देते हैं। इसके बाद टर्मन एक ऑफिस में जाता है, क्योंकि वह अपना एक बुक स्टोर खोलना चाहता है। जिसके लिए उसे लाइसेंस की जरूरत होगी। लेकिन यहां पर जो ऑफिस का हेड होता है, वह बहुत खड़ूस होता है। वह साफ साफ मना कर देता है, कि तुम्हें लाइसेंस नहीं मिलेगा। और वह वहां से चला जाता है।

Life is beautiful Movie Stories in hindi

Hollywood full Movie Stories in hindi

इसके बाद टर्मन अपनी बड़बड़ से रिसेप्शन पर जो महिला होती है उसका दिमाग खा रहा होता है। वह बड़बड़ करते हुए खिड़की के पास पहुंच जाता है, जहां पर एक गमला होता है। उस गमले से उसकी केहूनी लगती है, और गमला नीचे गिर जाता है। नीचे से वही ऑफिसर जा रहा होता है, जिसने अभी अभी टर्मन को लाइसेंस देने से मना कर दिया है। और गमला सीधे उसके सिर पर जाकर लगता है। और गमला टूट जाता है। टर्मन बोलता है, कि वाह क्या निशाना था। वह भागता हुआ नीचे जाता है, और उसके कपड़े साफ करने से उसके हाथ में जो अंडे होते हैं। वह उसके हैट के ऊपर देता है। दरअसल ऑफिसर ने अपनी हैट उतारकर गाड़ी के ऊपर रख दी होती है। वह ऑफिसर बोलता है, कि अब मैं देखता हूं कि तुम्हें लाइसेंस कैसे मिलता है। तुम्हारी दुकान कैसे खुलती है। गुस्से में ऑफिसर अपनी हैट पहन लेता है। जिसके अंदर अंडे हैं। और सारे अंडे उसके सिर के ऊपर फूट जाते हैं। इस बात से गुस्सा होकर ऑफिसर टर्मन का पीछा करने लगता है। टर्मन एक आदमी की साइकिल लेकर भाग जाता है। और वह आदमी उसका पीछा कर रहा है। भागते भागते टर्मन एक लड़की से टकराता है। यह वही लड़की होती है, जिसे मधुमक्खी ने काटा था। उसे देखते हैं टर्मन बोलता है की खुशामदीद नूरे मल्लिका। लेकिन टर्मन उससे ज्यादा देर तक बात नहीं कर पाता। क्योंकि उसके पीछे वह ऑफिसर पड़ा होता है। और टर्मन वहां से चला जाता है। इसके बाद यह दिखाया जाता है, कि टर्मन अपने अंकल के होटल में काम करना शुरू कर देता है।

Life is beautiful Movie Stories in hindi

Hollywood full Movie Stories in hindi

वहां वह वेटर का काम करता है। उसी होटल में बार बार एक आदमी आता है। जो पैसे से एक डॉक्टर होता है। इस डॉक्टर को पहेलियों का शौक होता है। अगर इससे कोई पहेली पूछ ले तो जब तक डॉक्टर जवाब ना निकाल ले, उसे नींद भी नहीं आती और भूख भी नहीं लगती। टर्मन डॉक्टर के पहेलियों का बहुत जल्दी जवाब ढूंढ लेता है। इसीलिए टर्मन से डॉक्टर की अच्छी जान पहचान हो जाती है। एक दिन टर्मन के अंकल के होटल में एक आदमी आता है। यह एक टीचर होता है, जो रोम से आया होता है। और यह अध्यक्ष होता है। अगली सुबह इस टीचर को उसी स्कूल में जाना होता है। जहां पर डोरा पढ़ाती है। दरअसल डोरा एक टीचर होती है। टर्मन अगली सुबह उस आदमी की जगह वक्त से पहले डोरा के स्कूल में पहुंच जाता है। वहां डोरा से बात करता है और उससे कहता है कि मैं तुमसे संडे को मिलना चाहता हूं। डोरा कहती है कि संडे को मैं ओपरा देखने जा रही हूं। इसके बाद टर्मन वहां बच्चों के साथ बहुत मस्ती मजाक करता है। जब वहां पर असली आदमी आ जाता है। तो टर्मन खिड़की से कूद कर भाग जाता है। अब संडे आता है। टर्मन उसी ओपरा थिएटर में जाता है, जहां पर डोरा भी होती है। डोरा उसी आदमी के साथ होती है, जिसके सिर पर टर्मन ने गमला फोड़ा था। अब ओपेरा खत्म होता है। डोरा उस आदमी के साथ घर वापस जा रही होती है। लेकिन बाहर बारिश होती है। वह आदमी जब गाड़ी लेने के लिए जाता है, तो वहां पर टर्मन अपनी दोस्त की गाड़ी ले आता है। उसके दोस्त की गाड़ी और उस ऑफिसर की गाड़ी एक जैसी होती है। और डोरा गाड़ी में बैठ जाती है। उसे लगता है कि यह ऑफिसर की गाड़ी है। जिसके साथ वह थिएटर आई है। लेकिन अंदर टर्मन होता है। दोनों बहुत सारा टाइम एक दूसरे के साथ बिताते हैं। टर्मन, डोरा से बोलता है कि मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं। हालांकि डोरा इस बात का जवाब नहीं देती। लेकिन डोरा भी टर्मन से प्यार करती है। इसके बाद टर्मन वहां से चला जाता है। 1 दिन टर्मन के होटल में एक पार्टी होती है। यह एक इंगेजमेंट पार्टी होती है। बाद में उसे पता चलता है, कि यह इंगेजमेंट पार्टी डोरा की है। डोरा की इंगेजमेंट उसी आदमी से हो रही है, जिसने टर्मन को लाइसेंस देने से मना किया था। अब यह सब देख टर्मन बहुत दुखी होता है। क्योंकि वह डोरा से बहुत प्यार करता है। लेकिन टर्मन अपना दुख किसी को नहीं दिखाता। इसी बीच डोरा को मौका मिलता है, जब वह टर्मन के सामने आ जाती है।

Life is beautiful Movie Stories in hindi

Hollywood full Movies Story in hindi

दरअसल टेबल के नीचे टर्मन ने कुछ गिरा दिया होता है और उसे उठा रहा होता है। और डोरा भी टेबल के नीचे आ जाती हैं। और टर्मन को किस करती है। टर्मन को बोलती है कि मुझे यहां से ले चलो। अब टर्मन वहां से चला जाता है। अब डोरा जब सबके साथ खाने की टेबल पर बैठी होती है। तो टर्मन अपने अंकल के घोड़े पर बैठकर आता है। और वह डोरा से बोलता है, कि क्या आप मेरे साथ चलेंगी नूरे मल्लिका। इससे पहले कि वहां पर बैठे लोग कुछ समझ पाते। डोरा उसके साथ घोड़े पर बैठकर वहां से निकल जाती है। इसके बाद टर्मन और डोरा शादी कर लेते हैं। धीरे-धीरे वक्त बितता है, और टर्मन और डोरा का एक बेटा भी है, जिसका नाम है जॉर्ज। टर्मन अब होटल में काम नहीं करता। बल्कि उसकी अपनी खुद की एक किताबों की दुकान है। इनका परिवार एक खुशहाल परिवार होता है। क्योंकि यह सब एक दूसरे से बहुत प्यार करते हैं। लेकिन यह वो वक्त होता है, जब सेकंड वर्ल्ड वॉर चल रहा था। उस समय दुकान के बाहर लिखा होता है कि जियूश और डॉग आर नॉट अलाउड। जॉर्ज अपने पिताजी से पूछता है कि उन्होंने ऐसा क्यों लिखा है। उसके पिताजी बोलते हैं कि मुझे नहीं पता। बस यह लोग हमें पसंद नहीं करते। अब जॉर्ज का बर्थडे होता है। उस दिन उसकी नानी बहुत सालों बाद उससे पहली बार मिलने आ रही होती हैं। डोरा अपनी मां को लेने के लिए बाहर जाती है। जब वह अपनी मां के साथ वापस आती है, तो वह देखती है, कि घर का सारा सामान बिखरा होता है। ना वहां पर टर्मन होता है ना जॉर्ज होता है। दरअसल उन दोनों को जर्मन सिपाही पकड़ कर अपने साथ ले गए होते हैं। डोरा उस जगह पर जाती है जहां ट्रेन से सभी कैदियों को किसी कैंप में भेजा जा रहा होता है। डोरा बोलती है कि मैं भी उनके साथ जाना चाहती हूं। क्योंकि मेरा परिवार वहां पर है। वे लोग डोरा को भी उस ट्रेन में बिठा देते हैं। जब वे लोग कैंप में पहुंचते हैं, तो डोरा को उसके परिवार से अलग कर दिया जाता है। क्योंकि फीमेल के लिए अलग कैंप होता है और मेल के लिए अलग कैंप होता है। इसी बीच जॉर्ज कई बार अपने पिताजी से पूछता है कि हम कहां जा रहे हैं। उसके पिताजी बोलते कि कोई खेल चल रहा है। यहां पर सिपाही हमें बताएंगे कि हमें क्या करना है। और जो इनकी बात नहीं मानेगा उसे खेल से निकाल दिया जाएगा। पर मन अपने बेटे से बोलता है, कि अगर तुम इस खेल में जितना चाहते हो, फर्स्ट आना चाहते हो, तो तुम्हें बहुत सावधानी से चलाकी से काम लेना होगा। उसका बेटा पूछता है कि फर्स्ट प्राइज क्या है। उसके पिताजी बोलते हैं कि एक असली टैंक। टर्मन के बेटे को टैंक से बहुत लगाव होता है। अब टर्मन और जॉर्ज एक बहुत बड़े हॉल में जाते हैं। जब वह अंदर हॉल में जाते हैं, तो टर्मन एकदम हैरान हो जाता है। क्योंकि वहां पर बहुत सारे लोग होते हैं, जो कैदी के ड्रेस में होते हैं। लेकिन टर्मन अपने चेहरे पर एक भी शिकन नहीं आने देता।

Life is beautiful Movie Stories in hindi

Hollywood full Movie Stories in hindi

वह खुश होकर अपने बेटे को बोलता है, कि जल्दी चलो हमें अपना बेड लेना है। और वह एक बेड ले लेते हैं। इसके बाद उसके पिताजी कहते हैं, कि हम दोनों एक साथ में सो सकते हैं। जॉर्ज को वह जगह बिल्कुल पसंद नहीं आती। अपने पिताजी से कहता है, कि यहां बहुत बदबू आती है सब चिल्लाते रहते हैं। उसके पिताजी कहते हैं, कि यहां पर सब इसलिए चीलाते हैं क्योंकि सब जीतना चाहते हैं। क्योंकि नाम बहुत बड़ा है।जॉर्ज कहता है कि मुझे घर जाना है मुझे मम्मी के पास जाना है।उसके पिताजी कहते हैं, कि एक बार हम यहां पर जीत जाए उसके बाद घर चले जाएंगे। जॉर्ज बोलता है, कि जितने के लिए क्या करना पड़ेगा। उसके पिताजी कहते हैं कि तुम्हें 1000 पॉइंट इकट्ठे करने पड़ेंगे। एक बार हमारे पास हजार पॉइंट्स हो जाए इसके बाद हम गेम में फर्स्ट आ जाएंगे। और तुम्हें टैंक के ऊपर बैठाया जाएगा। तभी वहां पर एक जर्मन ऑफिसर आता है। वह पूछता है, कि किसी को जर्मन आती है। टर्मन झूठ बोल देता है, कि मुझे आती है। जर्मन ऑफिसर उसे वहां पर बुलाता है और वहां के कायदे कानून बताने लगता है। ताकि टर्मन अपनी भाषा में सब को बता सके, कि क्या करना है। अब जर्मन ऑफिसर एक-एक करके वहां के रूल बताता है। और टर्मन अपनी भाषा में गेम्स के रुल बताने लगता है। ताकि उसके बेटे को उस पर यकीन हो जाए।क्योंकि उन जर्मन ऑफिसर को उसकी भाषा नहीं आती। जिस तरह के हाव-भाव जर्मन ऑफिसर प्रकट करता है उसी तरह के हाव भाव टर्मन प्रकट करता है, और बताता है कि इस गेम को जीतने के लिए हजार पॉइंट इकट्ठे करने पड़ेंगे। जो हार जाएगा उसे गेम से निकाल दिया जाएगा।और जो जीतेगा उसे एक असली टैंक के ऊपर बैठाया जाएगा। और उसका बेटा यह जानकर खुश हो जाता है। क्योंकि उसे टैंक बहुत पसंद है। दरअसल टर्मन नहीं चाहता कि उसके बेटे को असलियत पता चले। इसीलिए वह अपने बेटे को गेम में उलझा कर रखना चाहता है। अगले दिन टर्मन सभी कैदियों के साथ काम पर जाता है। यहां पर काम बहुत कठिन होता है। जब शाम को लौट कर वह घर आता है, तो सारे कैदी बहुत थके होते हैं। जो आते ही सो जाते हैं। लेकिन जैसे ही टर्मन अपने बच्चे को देखता है वह बहुत ही एक्टिव हो जाता है। हालांकि वह थका हुआ है, परेशान है, डरा हुआ है, लेकिन वह नहीं चाहता, कि उसका बच्चा भी डरे। वह कहता है कि आज मैंने 48 पॉइंट कमाए।वह अपने बेटे से कहता है कि तुमने बाकी बच्चों के साथ खेला। वह कहता है, कि हां मैंने खेला लेकिन किसी को भी इस गेम के बारे में नहीं पता। ना हजार पॉइंट्स के बारे में पता है ना टैंक के बारे में पता है। उसके पिताजी हंसते हुए कहते हैं, कि तुमने उनकी बातों पर यकीन कर लिया। दरअसल वह तुम्हें बेवकूफ बना रहे हैं। वह नहीं चाहते कि तुम टैंक जीतो। जॉर्ज कहता है, कि जब उन्होंने मुझे ब्रेड दिया तो मैंने उनसे जाम नहीं मांगा। उसके पिताजी कहते हैं, कि तुमने बहुत अच्छा किया।

इसके लिए तुम ने 12 पॉइंट्स कमाए।दरअसल उसके पिताजी ने उसे पहले ही बता दिया होता है, कि अगर तुम कुछ मांगोगे तो तुम्हारे पॉइंट्स कट जाएंगे और तुम्हें गेम से बाहर निकाल दिया जाएगा। इसके बाद टर्मन अपने बच्चे के साथ सो जाता है। और अगले दिन जब वह काम पर जाता है। तो उसका बेटा वहां पर आ जाता है, जहां पर वह काम कर रहा होता है। टर्मन बोलता है कि बेटा तुम यहां पर क्या कर रहे हो। वह कहता है कि सारे सैनिक बच्चों को नहाने के लिए ले जा रहे हैं। मुझे नहाना नहीं पसंद है, मैं नहीं नहाउंगा। जॉर्ज अपने पिताजी से पूछता है, कि पिताजी आप क्या कर रहे हैं। उसके पिताजी बोलते हैं, कि मैं तुम्हारे लिए टैंक बना रहा हूं। हम सब यहां पर टैंक का काम कर रहे हैं।वह अपने बेटे को कहता है, कि तुम यहीं कहीं छिप जाओ, ताकि तुम्हें कोई देख ना सके। और शाम को हम दोनों एक साथ वापस जाएंगे। यहां पर जर्मन सोल्जर जितने भी बच्चे और बूढ़े होते हैं, उन्हें यह बोल कर ले जाते हैं, कि तुम्हें नहाना है। और जब सब लोग उसे हॉल में जाते हैं, तो उसके अंदर जहरीली गैस ऑन कर देते हैं। जिससे सारे बच्चे और बूढ़े मर जाते हैं। लेकिन जॉर्ज बच चुका है। 1 दिन उस कैंप में डॉक्टर सारे बंधुओं का चेकअप करने के लिए आते हैं। जो सही नहीं होते उन्हें मार दिया जाता है। लेकिन जब डॉक्टर, टर्मन के पास पहुंचता है तो बताता है कि यह ठीक है। यह डॉक्टर वही होता है जो उसके अंकल के होटल में आया करता था। डॉक्टर टर्मन को बताता है, कि यहां पर बहुत बड़ी पार्टी होने वाली है, तो वहां पर वेटर का काम करना। अब टर्मन अपने हॉल में जाता है। वह देखता है कि वहां पर जॉर्ज नहीं होता। दरअसल उसका बेटा डर के मारे छुप गया होता है। जब वह अपने बेटे से पूछता है कि क्या हुआ। तो उसका बेटा बताता है कि यहां के जो सैनिक हैं वह हमें मारकर बटन और साबुन बना देंगे। एक आदमी को मैंने यह कहते हुए सुना। इस बात पर टर्मन बहुत हंसता है। हालांकि टर्मन अंदर से खुद भी डरा हुआ है। क्योंकि यहां पर एक-एक करके लोगों को मारा जा रहा है। लेकिन वह हंसता है, और बोलता है, कि ऐसा कभी हो ही नहीं सकता। धीरे-धीरे वह अपने बेटे को यकीन दिला देता है कि यह सब झूठ है। अब उसका बेटा बोलता है कि पिताजी मुझे यहां पर नहीं रहना। तुम यहां से अभी चलो। उसके पिताजी कहते हैं कि ठीक है तो चलो। वैसे हम लोग यह गेम जीतने वाले थे। और वह अपने बेटे को बहला-फुसलाकर मना लेते हैं। उसका बेटा कहता है, कि ठीक है पिताजी अब हम लोग यहां से जीतकर जाएंगे। उसके बाद मैं एक असली टैंक के ऊपर बैठूंगा। अब वह दिन आता है, जिस दिन पार्टी में टर्मन को वेटर का काम करना है। उस दिन बाहर से बहुत सारे जर्मन मेहमान आए होते हैं।

Life is beautiful Movie Stories in hindi

Hollywood full Movie Stories in hindi

उनके साथ बच्चे भी होते हैं, जो बाहर छुपन छुपाई खेल रहे होते हैं। वहां पर बहुत सारे बच्चे छिप जाते हैं। जो देखकर टर्मन भागता हुआ हॉल में जाता है। और वह जॉर्ज को उस जगह ले जाता है, जहां पर बच्चे छुपे हुए हैं, जहां पर बच्चे खेल खेल रहे हैं। वह अपने बेटे को कहता है कि जाओ उस डब्बे के अंदर देखो वहां पर एक बच्चा छुपा हुआ है। पहले तो वह जॉर्ज कि नहीं करता। जब वह ढक्कन खोलता है, तो दिखता है कि उसके अंदर एक बच्चा छुपा हुआ है। इस तरह से जॉर्ज को यकीन हो जाता है, कि यहां पर बच्चे भी हैं और यहां पर गेम चल रहा है। जब जॉर्ज वापस आ रहा होता है, तभी उसे एक जर्मन गार्ड देख लेती है। वह सोचती है, कि यह कोई जर्मन बच्चा है। वह उसे बुलाती है। अब टर्मन बुरी तरह से डर जाता है। वह अपने बेटे से कहता है, कि तुम वादा करो कि तुम कुछ भी नहीं बोलोगे। क्योंकि अगर वह बोलेगा तो, उन्हें पता चल जाएगा कि यह बच्चा जर्मन नहीं है। और उसे मार देंगे। जॉर्ज बोलता है, कि मैं वादा करता हूं कि मैं कुछ नहीं बोलूंगा। और इसके बाद उसका बेटा जर्मन बच्चों के साथ शामिल हो जाता है। वह कुछ नहीं बोलता, इसलिए उसे कोई नहीं पहचान पाता। आज बहुत दिनों बाद जॉर्ज ने अच्छा खाना खाया है। जब वह खाना खा रहा होता है, तो उसके पिताजी उसे कुछ देते हैं। उसके मुंह से अपनी लैंग्वेज में थैंक्यू निकल जाता है। और वहां पर जो दूसरा वेटर होता है, वह समझ जाता है कि इनमें से एक बच्चा है जो जर्मन नहीं है। वह अपने हेड को बुलाने के लिए जाता है। जब वह अपनी हेड के साथ वापस आता है। टर्मन सभी बच्चों को थैंक यू बोलना सिखा रहा होता है। उन्हें यह लगता है कि सारे बच्चे जर्मन है। इसीलिए इनमें से किसी बच्चे ने शायद थैंक यू बोल दिया हो। रात को पार्टी खत्म होने के बाद। टर्मन अपने बेटे को वापस अपने हॉल में ले आता है। उसी रात को गोलाबारी होना शुरू हो जाती है। इन्हें यह पता चलता है, कि शायद इनके ऊपर हमला हो गया है। अमेरिका ने यहां तक पहुंच चुके हैं, और अब लड़ाई खत्म होने वाली है। और अब यह सभी लोगों को मार देंगे, ताकि सारे सबूत मिटा सके। टर्मन बोलता है कि मैं यहां नहीं रह सकता। वह अपने बेटे को लेकर रात में निकल जाता है। वह अपने बेटे को बोलता है कि जॉर्ज यह लोग तुम्हें ढूंढ रहे हैं। क्योंकि यह सब लोग पकड़े जा चुके हैं। अगर तुम्हें इस गेम को जितना है तो तुम्हें किसी भी हालत में छुप कर रहना होगा। वह उसे एक बहुत बड़ा बॉक्स दिखाता है। यह वही बॉक्स होता है, जिसके अंदर एक जर्मन बच्चा छुपा होता है। वह अपने बेटे से कहता है कि तुम्हें यहां पर छूपना पड़ेगा। वह कहता है, कि तुम यहां पर तब तक छुपे रहना। जब तक पूरी तरह से खामोशी ना हो जाए। तभी तुम इस गेम को जीत पाओगे। टर्मन अपने बेटे से कहता है, कि मुझसे वादा करो जैसा मैंने तुमसे कहा था तुम वैसा ही करोगे। जॉर्ज कहता है कि पिताजी मैं वादा करता हूं। जब तक बाहर पूरी तरह से शांति नहीं हो जाएगी। मैं बाहर नहीं निकलूंगा। और इसके बाद टर्मन अपने बेटे को वहीं छोड़कर आगे निकल जाता है। दरअसल वह उस कैंप में जाना चाहता है जहां उसकी पत्नी है।

जब वह उस कैंप में पहुंचता है, तो देखता है कि वहां पर बहुत सारी औरतों को एक ट्रक में बैठा कर उस जगह से किसी और जगह में ले जाए जा रहा है। वह एक औरत से पूछता है, कि यहां पर कोई डोरा नाम की औरत है। वह कहती है कि है। तभी अंदर से एक औरत निकल कर आती है, लेकिन वह उसकी पत्नी नहीं होती। इतने में उसे जर्मन सैनिक देख लेते हैं। और वो टरमन को पकड़ लेते हैं। शायद यह टर्मन की जिंदगी का आखरी वक्त है। जब उसे पकड़ कर ले जा रहे होते हैं, तो वह उस बॉक्स की तरफ देखता है जहां उसका बेटा होता है। उसका बेटा भी उसे देख रहा होता है। वह अपने बेटे को आंख मारता है। उसका बेटा भी उसे आंख मारता है। बहुत ही फनी तरीके से मार्च करता हुआ वहां से निकल जाता है। ताकि उसके बेटे को यह लगे कि वह पकड़ा जा चुका है। और यह सिर्फ एक गेम का हिस्सा है। लेकिन जर्मन सिपाही टर्मन को एक जगह ले जाकर गोली मार देते हैं। अब टर्मन इस दुनिया में नहीं रहा। उसके बेटे को अभी भी यही लगता है कि यह कोई गेम चल रहा है। वह रात भर उसे बॉक्स के अंदर बैठा रहता है। सुबह वहां से सारे जर्मन सैनिक चले जाते हैं। जितने कैदी होते हैं वह भी वहां से निकल जाते हैं। चारों तरफ पूरी तरह से सन्नाटा हो जाता है। और अब जॉर्ज बॉक्स के अंदर से बाहर निकलता है।जॉर्ज देखता है, कि चारों तरफ कोई भी नहीं है। तभी वहां पर एक अमेरिकन टैंक आता है।

Please Subscriber

[mc4wp_form id=”117″]

उस टैंक को देखने के बाद जॉर्ज सोचता है कि मैं जीत गया। उस टैंक से एक सैनिक निकलता है।वह बोलता है, कि तुम्हें यहां पर अकेले डर नहीं लगता। जॉर्ज बोलता है कि नहीं। सैनिक उसे ऊपर टैंक पर बिठा देता है। अब जॉर्ज सच में एक असली टैंक के ऊपर बैठा हुआ है। जब वह रास्ते में जा रहा होता है। तभी वह देखता है कि वहां पर बहुत सारे कैदी भी जा रहे होते हैं। उन्हीं में से उसकी मम्मी भी होती हैं। वह अपनी मम्मी को देख कर बहुत खुश होता है। भागता हुआ अपने मम्मी के पास जाता है। और जॉर्ज अपनी मम्मी से मिल जाता है। अंत में वही आवाज आती है, जिस आवाज ने इस कहानी को शुरू किया होता है। यह आवाज जॉर्ज की होती है। वह कहता है, कि यह है मेरी कहानी। मेरे पिता के कुर्बानी की वजह से मुझे जिंदगी मीली।