Islamic new year in hindi

0
(0)

दोस्तों Islamic new year के बारे में कुछ भी जानने से पहले आइए जानते हैं, इस्लामिक महीनों के नाम:

इस्लामिक महीनों के नाम (Islamic Months Name in hindi)

मुहर्रम

रबी-उल-अव्वल

जमादिल-अव्वल

रजब

रमज़ान

ज़िल्काद

सफ़र

रबी उल-सानी/रबी उल-आख़िर

जमादी-उल-आख़िर

शाबान

शव्वाल ज़िल्हज

Islamic new year को अल हिजरा, अरबी न्यू ईयर के नाम से भी लोग जानते हैं. इस्लामिक धर्म में हर त्योहारों की तारीख बदलती रहती है. ठीक उसी तरह Islamic new year की भी तारीख बदल जाती है. इसके पीछे का सबसे बड़ा कारण यह है कि इस्लाम में जिस कैलेंडर को माना जाता है, उस कैलेंडर को सौर कैलेंडर से तुलना की जाए तो इस्लामिक कैलेंडर में 11 दिन कम है. Islamic new year को मुहर्रम के पहले दिन को ही कहा जाता है इसीलिए मोहर्रम का पहला दिन ही Islamic new year की तरह मनाया जाता है. 

Islamic new year

Islamic new year को 622 ईस्वी को हुई घटना के कारण मनाई जाती है. यह घटना के कारण Islamic new year को मुख्य रूप से उस दिन को मनाया जाने लगा जब पैगंबर मोहम्मद मक्का से मदीना आए थे. बोला जाता है कि उसी दिन वैसे गैर मुस्लिम जो दमनकारी थे, वह पैगंबर मोहम्मद के पहुंचते ही मदीना से भाग गए थे यह उसी का प्रतीक है. 

पैगंबर मोहम्मद के मक्का से मदीना आने का जो सबसे अहम कारण था वह यह था कि मक्का के लोग आपस में बिल्कुल बुरे तरिके के साथ रहा करते थे. जिसके कारण पैगंबर मुहम्मद के साथियों के साथ भी मक्का के लोग अपना व्यवहार बुरा ही रखे थे और साथ ही उन पर अत्याचार भी शुरू कर दिया गया था. परिणाम स्वरूप अबू बकर जो मोहम्मद के अच्छे दोस्त थे, उनके साथ मिलकर पैगंबर मुहम्मद मक्का से मदीना की ओर चल दिए उनका आना भी मदीना में सफल रहा यहां उनको अच्छे अच्छे लोग मिले. 

इसी वजह से Islamic new year पैगंबर मोहम्मद की मक्का से मदीना तक की यात्रा को दर्शाता है. इस्लामिक कैलेंडर की शुरुआत 1439 ईस्वी से हुई थी, मतलब Islamic new year सन 1439 ईस्वी से मनाया जा रहा है.

मुस्लिम संप्रदाय Islamic new year किस तरह मनाते हैं?

मुस्लिम संप्रदाय दो समुदायों में बटा हुआ है. जो है शिया और सुन्नी. दोनों संप्रदायों का Islamic new year बनाने का तरीका अलग-अलग है.

सुन्नी मुसलमान Islamic new year को एक जश्न  त्यौहार की  तरह मनाते हैं. सुन्नी मुसलमानों के लिए यह विशेष खुशी का दिन इसलिए होता है क्योंकि यह पैगंबर मोहम्मद की बताई गई बातों का अनुसरण करते हैं. हालांकि Islamic new year को सुन्नी मुसलमान भी बहुत ज्यादा शौकीन होकर नहीं मनाते हैं क्योंकि कुछ दिन पहले ही अबू बकर की मृत्यु हो गई थी.

 Islamic new year शिया संप्रदाय भी मनाते हैं मगर उनका मनाने का तरीका अलग होता है शिया संप्रदाय इसे गम का महीना मानते हैं. जिसको यह लोग आशूरा भी कहते हैं. यह मोहर्रम के दसवें दिन समाप्त हो जाता है.

हालांकि बुबुर-असुर जो कि मुस्लिम  संप्रदायों की एक पारंपरिक पकवान है, उसको बनाया जाता है. इस दिन यह लोग मस्जिदों में जमा होकर नमाज पढ़ते हैं. इसके साथ ही कुछ और भी धार्मिक गतिविधियां भी इस दिन की जाती है. जिसमें आध्यात्मिक गायन और कुरान का पाठ सम्मिलित है. इस दिन को ज्यादातर मुस्लिम अपने आगे के भविष्य निर्माण और अपने द्वारा किए गए कुछ गलत काम को लेकर आत्ममंथन करते हैं और इसी के साथ ही आगे की जिंदगी को बेहतर बनाने के लिए संकल्प लेते हैं. 

साल 2021 में Islamic new year कब है?

Islamic new year आसमान में सूरज जैसे ही अस्त होता है और नया चंद्रमा दिखने लगता है. यही वक्त Islamic new year की शुरुआत को चिन्हित करता है. इस वर्ष 2021 में Islamic new year 9, 10 अगस्त को है जो कि 9 अगस्त 2021 ki sham से शुरू होगा और 10 अगस्त को खत्म हो जाएगा. Islamic new year को मुस्लिम संप्रदायों के बीच विश्वास के लिए समर्पित माना जाता है. 

Islamic new year me भारत, इंडोनेशिया, मलेशिया और सयुक्त अरब अमीरात जैसे देशों में सरकार की तरफ से छुट्टी मनाई जाती है.

Islamic new year से जुड़ी पूरी कुछ खास बातें एक नजर में

Islamic new year मुहर्रम  के पहले दिन से माना जाता है. 

जब पैगंबर मोहम्मद 622 ईसवी में इस्लाम के लिए विकास के लिए मक्का से मदीना है उसी दिन को से Islamic new year की शुरुआत मानी जाती है. 

Islamic new year को अरबी भाषा में हिज्र बोलते हैं.

इस्लामिक कैलेंडर चांद की गणना के आधार पर निर्भर है.

Islamic new year

इस्लामी कैलेंडर में महीनों की संख्या 12 ही है, लेकिन 11 दिन छोटा कैलेंडर होने की वजह से साल में 354 या 55 दिन होते हैं.

Islamic new year मनाने वाले लोगों को मुश्किलों के बाद नया साल उम्मीद की किरण दिखती है.

Also Read

Judo Jodo Jeeto (Network Marketing) 

Badi Soch Ka Bada Jadoo 

Biography of Sonu Sood

Rajiv Gandhi Biography in hindi

Subscribe

Loading

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Average rating 0 / 5. Vote count: 0

No votes so far! Be the first to rate this post.

%d bloggers like this: